Monday, October 26, 2009

हैरत


उस अंजान बेपरवाह रहगुज़र में
वे खामोशी हरदम किसके थे ?


तू जा तो पहुँचा उस तरफ़
मगर वे कदम किसके थे ?

No comments:

Post a Comment